26 जनवरी सन १९८७ से प्रारम्भ रोजगारोन्मुखी गारन्टेड तकनीकी प्रशिक्षण देने वाली यह संस्था बेरोज़गारी की समस्या को ध्यान में रखते हुए समय की मांग के अनुसार तकनीकी कोर्सस चलती आ रही है जिनका लाभ उठाते हुए बड़ी संख्या में प्रशिक्षणार्थियों अपने पैरों पर खड़े होकर परिवार और समाज में सम्मानजनक स्थान बना चुके है

संस्था द्वारा कराया जा रहा रहे सभी कोर्स सीधे व्यवसाय से जोड़ने वाले हैं इन सभी विषयो में रोज उपयोग में होने वाले उन उपकरणों से संबंधित प्रेक्टिकल करवाया जाता है जिनकी समय समय पर ख़राब होने या रख रखाव हेतु मैकेनिक आवश्यक होते है अतः इन सब का ध्यान रखने वालो की समाज में महत्ता होती है और वे बड़ी आसानी से रोजगार से जुड़ जाते है इन उपकरणों को सुधारने हेतु बहुत महगें और बहुत अधिक औजारों की भी अवश्यकता नही होती अर्थात रोजगार आरंभ करने हेतु अधिक पूंजी की अवश्यकता नही होती।

इस तरह के कोर्सेस को कम कीमत एवं कम समय में बड़ी आसानी से कर व्यक्ति नोकरी पा सकता है स्वरोजगार अपना सकता है वार्षिक रख रखाव के अनुबंध (ए.एम.सी.)से आमदनी प्राप्त कर सकता है इस तरह ये कोर्स रोजगार / नौकरी की समस्या से निजात दिलाते है क्योंकि तकनीकी ज्ञान रखने वाला व्यक्ति ख़ाली नही रहता, साथ ही नौकरी करने वाले भी इस तरह के ज्ञान से ‘’साइड बिजनेस ‘’ द्वारा अतिरिक्त आमदनी प्राप्त कर सकते है।